मंगलवार, 7 अक्तूबर 2008

कुछ यूं ही गुजर रही है जिंदगी

वक्त के बीते पन्ने
कुछ पीले पड़ने लगे हैं...
यादों की तमाम तहें
घुन सी गई हैं...
वक्त की सीलन
यादों में गहरे तक उतर आई है...
जिंदगी रस्सी के उन सिरों की तरह लगती है
जो उलझे भी हैं
और उलझे मालूम भी नहीं पड़ते...
वक्त रेत की तरह
मुट्ठी से फिसलता जा रहा है...
उलझन साए सी
जिंदगी के पीछे पड़ गई है...
हवाओं में हर ओर
साजिश की बू आती है
हर रास्ता अजनबी सा लगता है...
बार बार अपने अंदर का भरोसा
कड़वी हकीकत चखकर
तीखा हो जाता है...

लेकिन जेहन के एक कोने में पड़ा
उम्मीद का मीठा टुकड़ा...
बार बार यादों में घुलता है...
यादें फिर से उम्मीद की करवट होकर
समेटने लगती हैं
यादों के पीले पन्नों को...

2 टिप्‍पणियां:

Reetesh Gupta ने कहा…

आशा और उम्मीद से कारण ही हमारा जीवन तमाम कठिनाईयों के बाद भी चल रहा है....मन के भावों को अच्छे शब्द दिये हैं...बधाई

Shalini ने कहा…

सुबोध जी... उन्दा..आपको पढ़ कर कितना अच्छा लगता है...इस बात को हम शब्द के जाल से बुन पाये..थोड़ा मुश्किल होगा.. इसलिये सीधे शब्दों में बोलू तो बहुत बेहतरीन... लिखते हो आप... आज सुबह सुबह आपकी कविता पढ़ कर बहुत अच्छा लगा...प्लीज लिखते रहिये...